Tel: +91-9013232523, +91-7982195818 | Email: guidance@sarbanijyotishya.com
Tel: +91-9013232523, +91-7982195818 | Email: guidance@sarbanijyotishya.com

लाल किताब (lal kitab ke upay)

0

जानिए शनि के अशुभ होने पर जीवन में कैसी बातें होने लगती हैं…

– शनि विपरीत होने पर आंखें कमजोर हो जाती है, कमर दर्द शुरू हो जाता है।
– किसी विद्यार्थी के लिए शनि अशुभ फल देने वाला हो गया है तो पढ़ाई में उसका मन नहीं लगता और शिक्षा के क्षेत्र में कोई उपलब्धि भी प्राप्त नहीं होती।
– आलस्य बना रहे, कोई कार्य करने की इच्छा ना हो।
– जब व्यक्ति के चेहरे पर हमेशा थकान, तनाव, बड़ी दाड़ी दिखाई देने लगे।
– आप शनि संबंधी व्यवसाय करते हैं और आपको लगातार हानि हो रही हो तो यह शनि के अशुभ होने के लक्षण हैं।
– जूते-चप्पल का बार-बार टूटना, गुम होना शनि के विपक्ष में होने की सूचना है।
– यदि कोई भैंस खरीदे और कुछ ही दिन में उसकी मृत्यु हो जाए।
– आपके बाल अत्यधिक झड़ रहे हो या बाल संबंधी कोई बीमारी आपको घेर ले।
– शनि गरीब वर्ग का प्रतिनिधि होता है और यदि किसी गरीब व्यक्ति के कारण आपको हानि होने लगे या उससे लड़ाई-झगड़ा अधिक होने लगे।
– अचानक नौकरी छुट जाए।
– घर में कलेश और विवाद।
– कार्यस्थल पर चोरी का आरोप लगना, आपके विरुद्ध जांच के आदेश होना, कोई दंड या सजा मिलना।
– ऋण, लोन, उधार बढ़ता जाए।
– चारों ओर आपकी बुराई होने लगे।

जब आपके जीवन ऐसी घटनाएं होने लगे तो समझ लें कि शनि आपके पक्ष में नहीं है और उनका प्रकोप आप पर बढ़ रहा है।
Lal Kitab

Vastu, palmistry, and phrenology are also significant parts of the Lal Kitab. Benefits of Lal Kitab are that the remedy which is mentioned there is easier and simpler in today’s life.

Methods in Lal Kitab like flowed something in the running water, suppress something in the park, go to the temple, donate like simple.

And remember one thing, remedies which are mentioned in Lal Kitab are also can be harmful if you don’t follow them properly or do the remedies as describe by the expert of Lal Kitab. Whenever you are performing the remedies follow in the proper way otherwise you have to bear the side effect.


Consulting the Lal Kitab

The language used in Lal Kitab is hard and mysterious due to it’s difficult to understand and interpret properly.

There is a very rare number of peoples who has proper knowledge of Lal Kitab and can interpret it properly. Many people are just fooling the innocent person who is already in trouble.

लाल किताब (lal kitab ke upay) का सबसे महत्वपूर्ण पहलू नरक ग्रहों की पहचान और उनके दुष्प्रभावों की प्राप्ति के लिए आसान, सस्ती और अत्यंत प्रभावी उपचार उपायों की पहचान है। ऐसा कहा जाता है कि लाल किताब द्वारा दिए गए समाधान और उपचार अचूक हैं। लाल किताब उपचार (Lal Kitab vashikaran) सस्ती, आसान और त्वरित परिणाम प्रदान करते हैं। उपचार का प्रभाव अविश्वसनीय है। ऐसा कहा जाता है कि ये उपचार विशेष रूप से पारंपरिक तरीकों के रूप में कलियुगा में त्वरित परिणामों के लिए उपयुक्त हैं। इस अवधि में मंत्र, यज्ञ, जापा, हवाना आदि बहुत मुश्किल हो गए हैं। उपाय पानी चलने या घर में कुछ स्थापित करने में आसान हैं।

Lal Kitab Ke Upay OR Lal Kitab Remedies
लाल किताब उपचार करने के लिए निर्देश- Instructions For Performing Lal Kitab Remedies
लाल किताब का कोई भी उपाय ( Lal Kitab Ke Upay ) किसी भी समय शुरू किया जा सकता है। हालांकि इसे एक बार शुरू करने के 43 दिनों बाद लगातार देखा जाना चाहिए। यदि आप कुछ बाधाओं के कारण इसे 43 दिनों तक जारी रखने के लिए सक्षम नहीं हैं या एक या दो दिन के लिए इसके बारे में भूलना चाहते हैं तो आपको इसे कुछ दिनों तक बंद कर देना चाहिए और फिर 43 दिनों के लिए प्रक्रिया को फिर से शुरू करना और बाधित करना चाहिए। जब तक 43 दिनों के लिए निर्धारित उपचार लगातार मनाया जाता है, तब तक इसका पूरा इनाम अनिश्चित रहता है। लाल किताब के उपचार दिन के दौरान [सूर्य की उपस्थिति में] मनाया जाना चाहिए। सुबह या सूर्यास्त के बाद या तो उपचार के लिए कोई प्रभाव नहीं देखा जा सकता है।

Leave a Reply